एप्प आया बहार आई

  

दिल्ली में अच्छे दिन आने शुरू हो गए हैं । वहां बिजली और पानी सस्ता हुआ है । यूपी वालों के लिए भी इसी प्रकार के दिन लगभग आने ही वाले हैं । उनके लिए अब दिल्ली दूर नहीं रहने वाली । यूपी की जनता जब  चाहे उत्तर प्रदेश सड़क परिवहन की बस में बैठ कर वहां बड़े आराम से जा आ सकती है । खटर पटर करती बस में सवार होकर खरामा खरामा । वह अपने साथ दिल्ली वालों को दिखाने के लिए सैफई वाला समाजवाद ले जा सकती है । अपने यहाँ की तरक्की दिखा कर दिल्ली वालों को चिढ़ा सकती है । तकनीक के बेहतर इस्तेमाल से घर बैठे यहाँ से वहां जाने के लिए बस में अपनी सीट रिजर्व करा सकती है ।
यूपी में अब  बस यात्रियों की सुविधा के लिए नया एप्प आने ही वाला है ।  इसके जरिये बस में सीट बुक कराई जा सकेगी । बस चलने और गंतव्य तक पहुँचने के समय को जाना जा सकेगा । बस की लोकेशन हर वक्त ऑनलाइन मौजूद रहेगी । एप्प यात्रियों से इज्जत से पेश आएगा । टिकिट बुक करते ही एप्प एसएमएस के जरिये आपकी यात्रा सुखद हो टाइप सन्देश भेजेगा । बस और सीट का नम्बर आपको पहले ही बता देगा । बीच बीच में यह भी बताता रहेगा कि आप जहाँ से होकर गुजर रहे हैं उसका इतिहास और भूगोल क्या है । इस तरह यात्रा करते हुए लगातार यात्रियों की जरनल अवेरनेस खुद – ब –खुद  बढ़ती रहेगी ।
यूपी में यह एप्प आया तो समझो बहार आई । इसके आने से यहाँ की जनता की जिंदगी में काफी हद तक थैंकयू वैलकम जैसी शुभकामनाएँ और सामान्य शिष्टाचार आएगा । बस कंडेक्टर  छुट्टे पैसे न होने की आड़ में यात्रियों को डाट नहीं पिला पायेगा ।  कन्डक्टर दायित्वविहीन होकर अपने मित्रों से वाह्ट्सएप्प पर इत्मीनान से बतिया सकेगा । सबको लगेगा  कि विकास की लहर अपने यहाँ तक भी आ ही गई । देर तो बहुत की पर अन्तोत्गात्वा पहुँच ही  गई । जब जागो तभी सवेरा । जहाँ हो ऐसा एप्प वहाँ नहीं रहता कोई गैप । सरकार और जनता के बीच निरंतर सम्वाद बना रहता है ।
एप्प आएगा तो चारोंओर खुशहाली आएगी । इसके जरिये बस मिले या न मिले पर रिजर्वेशन जरूर मिलेगा । बस की सीट भले ही उखड़ी हों लेकिन वे मिलेंगी पूरे आदर भाव के साथ । बस समय से न चल पाने के बावजूद अपनी लोकेशन का अतापता देती चलेंगी । हो सकता है कि इस एप्प के साथ कोई एक्शन थ्रिलर या कैंडी क्रेश  जैसी कोई फिल्म या गेम देखने या खेलने के लिए मुफ्त मिले ,लोग उसे देखते -खेलते  रहेंगे और खुश हो कर सरकार की जयजयकार करते रहेंगे । उनका सफर बड़े मजे से कट जाया करेगा  ।
पता लगा है कि अब ऐसे ही अनेक एप्प आयेंगे । एप्प आएंगे तो खुशहाली आएगी । लोग जिंदादिल होंगे । तकनीक के महत्व को समझेंगे । आम आदमी टेक्नोलॉजी फ्रेंडली बनेगा । उसकी सोच वैज्ञानिक बनेगी । वह बदलते हुए वक्त के साथ इन एप्प के सहारे दौड़ लगा पायेगा । हर समय चाक चौबंद रहेगा । ये एप्प मामूली फोनों पर नहीं चलेंगे तो सबको स्मार्टफोन का जुगाड़ करना पड़ेगा । स्मार्टफोन के जरिये जनता एकदम चकाचक हो जायेगी । एप्प आएगा तो लोगों को कहना होगा –आया एप्प झूम के !




इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पे कमीशन का सातवाँ घोड़ा और तलहटी में खड़ा ऊंट

ओलंपिक का समापन और चोर की दाढ़ी में तिनका

इसरो के सेटेलाईट और एबोनाईट के पुराने रिकार्ड