एप्प आया बहार आई

  

दिल्ली में अच्छे दिन आने शुरू हो गए हैं । वहां बिजली और पानी सस्ता हुआ है । यूपी वालों के लिए भी इसी प्रकार के दिन लगभग आने ही वाले हैं । उनके लिए अब दिल्ली दूर नहीं रहने वाली । यूपी की जनता जब  चाहे उत्तर प्रदेश सड़क परिवहन की बस में बैठ कर वहां बड़े आराम से जा आ सकती है । खटर पटर करती बस में सवार होकर खरामा खरामा । वह अपने साथ दिल्ली वालों को दिखाने के लिए सैफई वाला समाजवाद ले जा सकती है । अपने यहाँ की तरक्की दिखा कर दिल्ली वालों को चिढ़ा सकती है । तकनीक के बेहतर इस्तेमाल से घर बैठे यहाँ से वहां जाने के लिए बस में अपनी सीट रिजर्व करा सकती है ।
यूपी में अब  बस यात्रियों की सुविधा के लिए नया एप्प आने ही वाला है ।  इसके जरिये बस में सीट बुक कराई जा सकेगी । बस चलने और गंतव्य तक पहुँचने के समय को जाना जा सकेगा । बस की लोकेशन हर वक्त ऑनलाइन मौजूद रहेगी । एप्प यात्रियों से इज्जत से पेश आएगा । टिकिट बुक करते ही एप्प एसएमएस के जरिये आपकी यात्रा सुखद हो टाइप सन्देश भेजेगा । बस और सीट का नम्बर आपको पहले ही बता देगा । बीच बीच में यह भी बताता रहेगा कि आप जहाँ से होकर गुजर रहे हैं उसका इतिहास और भूगोल क्या है । इस तरह यात्रा करते हुए लगातार यात्रियों की जरनल अवेरनेस खुद – ब –खुद  बढ़ती रहेगी ।
यूपी में यह एप्प आया तो समझो बहार आई । इसके आने से यहाँ की जनता की जिंदगी में काफी हद तक थैंकयू वैलकम जैसी शुभकामनाएँ और सामान्य शिष्टाचार आएगा । बस कंडेक्टर  छुट्टे पैसे न होने की आड़ में यात्रियों को डाट नहीं पिला पायेगा ।  कन्डक्टर दायित्वविहीन होकर अपने मित्रों से वाह्ट्सएप्प पर इत्मीनान से बतिया सकेगा । सबको लगेगा  कि विकास की लहर अपने यहाँ तक भी आ ही गई । देर तो बहुत की पर अन्तोत्गात्वा पहुँच ही  गई । जब जागो तभी सवेरा । जहाँ हो ऐसा एप्प वहाँ नहीं रहता कोई गैप । सरकार और जनता के बीच निरंतर सम्वाद बना रहता है ।
एप्प आएगा तो चारोंओर खुशहाली आएगी । इसके जरिये बस मिले या न मिले पर रिजर्वेशन जरूर मिलेगा । बस की सीट भले ही उखड़ी हों लेकिन वे मिलेंगी पूरे आदर भाव के साथ । बस समय से न चल पाने के बावजूद अपनी लोकेशन का अतापता देती चलेंगी । हो सकता है कि इस एप्प के साथ कोई एक्शन थ्रिलर या कैंडी क्रेश  जैसी कोई फिल्म या गेम देखने या खेलने के लिए मुफ्त मिले ,लोग उसे देखते -खेलते  रहेंगे और खुश हो कर सरकार की जयजयकार करते रहेंगे । उनका सफर बड़े मजे से कट जाया करेगा  ।
पता लगा है कि अब ऐसे ही अनेक एप्प आयेंगे । एप्प आएंगे तो खुशहाली आएगी । लोग जिंदादिल होंगे । तकनीक के महत्व को समझेंगे । आम आदमी टेक्नोलॉजी फ्रेंडली बनेगा । उसकी सोच वैज्ञानिक बनेगी । वह बदलते हुए वक्त के साथ इन एप्प के सहारे दौड़ लगा पायेगा । हर समय चाक चौबंद रहेगा । ये एप्प मामूली फोनों पर नहीं चलेंगे तो सबको स्मार्टफोन का जुगाड़ करना पड़ेगा । स्मार्टफोन के जरिये जनता एकदम चकाचक हो जायेगी । एप्प आएगा तो लोगों को कहना होगा –आया एप्प झूम के !




इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जलीकट्टू और सिर पर उगे नुकीले सींग

भगत जी ,जगत जी और मस्तराम की पकौड़ी

शराफ़त नहीं है फिर भी....