आरक्षण का हार्दिक मुद्दा


मुल्क में वैसे तो किसी चीज की कमी नहीं है। सब कुछ तो है यहाँ। भरपूर आबादी है। इसका निरंतर होता विस्तार है। भांति भांति के पर्व हैं। उन्हें मनाने की विधि है। उत्सव हैं। उत्सवप्रियता है। ढोल नगाड़े है। कोलाहल है। बात बात पर लोगों के लगने वाले जमघट हैं। सड़क पर लगने वाले जाम हैं। जाम खुलने के बाद मिलने वाला आराम है। चादर हैं। उसे ओढ़ कर चैन से सोने वाले निद्रामग्न लोग  है। भ्रष्टाचार है। उसके निदान के लिए तमाम प्रकार के स्पाईकैम जैसे उपकरण और महकमे हैं। बदलती हुई ऋतुएं हैं। मानसून है। गहरे काले बादल हैं। उनके जलभरे होने का अनुमान है। बारिश की उम्मीद है। रातें हैं तरह तरह की। सुबह है अनेक प्रकार की। मुर्गे हैं रंगबिरंगे। बांग देने का समय तय नहीं। और तो और हमारे पास हार्दिक महत्वकांक्षा भी है। जातिगत आरक्षण के लिए बुलंद आवाज़ हैं। राजनीति के आसमान में उभरता हुआ नवोदित सितारा है।
जातिगत आरक्षण एक लुभावना शब्द है। इसके झंडे तले पूरी बिरादरी एकजुट हो जाती है। इसके जरिये और कुछ हो या न हो पर बड़ी आस जगती है। बेरोजगारों को लगता है कि यदि आरक्षण आया तो समझो कि सरकारी नौकरी का अपोइंटमेंट लैटर आया। सरकारी जॉब मिला तो मानो मुलायम गद्दे और गाव तकिये से सुसज्जित तख्तेताउस मिला। बिना कुछ करे धरे मासिक पगार मिलने का अवसर उपलब्ध हुआ। फाइलों पर पसर कर लोगों के ऊपर रौब ग़ालिब करने का मौका मिला। जम कर आराम फरमाने के लिए सीएल ,ईएल ,एमएल,फरलो टाइप के अवकाश अधिकारिक रूप में मिले। मेज के नीचे से प्रकट होने वाली ऊपर की आमदनी होने की संभावना बलवती हुई।
अब तक पूरा मुल्क जान गया है कि बढ़िया नौकरियां अमूमन लियाकत से नहीं मिलती। वे या तो सिफारिश से मिलती हैं या रिश्वत के बलबूते या फिर आरक्षण की महती कृपा से। और आरक्षण ऐसे ही नहीं मिल जाता उसके लिए दमदार पैरोकार की जरूरत पड़ती है। धरने, प्रदर्शन, जुलूस और जलसे आयोजित किये बिना कुछ प्राप्त नहीं होता। रोटी का निवाला उसी मुहँ में जाता है जो उसे पूरे शोरोगुल के साथ देर तक बाये रहता है। आरक्षण उसी को प्राप्त होता है जो उसे दिए जाने की पुरजोर डिमांड करता है। रेलें रोकता है। जगह जगह आगजनी करवाता है। सामन्य जनजीवन ठप्प करवा देता है। यह कोई रेलवे बर्थ का रिजर्वेशन नहीं कि जो साइबर कैफे वाले के कम्प्यूटर पर उगलियाँ दौडाते ही हो जाए।  बैठे ठाले हो जाये। सामाजिक रूप से पिछडापन तभी महिमामंडित होता जब उसके साथ राजनीतिक समीकरण आ जुड़ते हैं। वरना पिछड़े हुए लोग हमेशा पिछड़ते चले जाते हैं।
मुल्क के हर राज्य के पास न्यूनतम एक न एक निजी आइकन है। ठीक वैसे ही जैसे धरती पर जगमगाने की ख्वाईश रखने वाले लोगों के पास पर्सनल स्वप्निल आसमान होता है। आकाश में जगह पाने का मंसूबा बांधने के लिए अंधभक्तों के मजबूत कंधों की दरकार होती है। मानना होगा कि एक नए नवेले आरक्षण पुरुष का अभ्युदय हो चुका है। उसके लिए यह मुरादों भरे दिन हैं।
आरक्षण पुरुष जी के महती प्रयासों से किसी को रिजर्वेशन मिले या नहीं लेकिन यह तय है कि उनके लिए राजनीतिक भविष्य की सीट बुक हो ली है। इस अनिश्चय से भरी दुनिया में रिजर्व सीट पर पसरने की बात ही कुछ और होती है। और जब तक ऐसा होना संभव न हो तब तक सीट पर रुमाल ,अंगोछा, हवाई चप्पल, मोबाइल ,खैनी की डिब्बी टाइप कुछ रख कर उसे बाकायदा घेरने की जुगत की  जा सकती है। घेराबंदी से रिजर्वेशन खुद ब खुद प्रकट हो जाता है।
आरक्षण एक ऐसा सपना है जिसे इस मुल्क की अधिसंख्य आबादी अपने जीते जी कम से कम एक बार तो जरूर देखती ही है।





इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पे कमीशन का सातवाँ घोड़ा और तलहटी में खड़ा ऊंट

ओलंपिक का समापन और चोर की दाढ़ी में तिनका

इसरो के सेटेलाईट और एबोनाईट के पुराने रिकार्ड