वह इस तरह क्यों मरा ? ,,,,


आप वाले परेशान हैं l राजस्थान का किसान दिल्ली के पेड़ से सरेआम लटक कर मर गया l लोग मरने के लिए कैसी कैसी जगह और वजह ढूंढ लेते हैं l नेताओं को शक है कि यह मरने वाला और चाहे जो हो किसान तो नहीं रहा होगा l और यदि किसान होगा भी तो गरीब गुरबा नहीं होगा l एक पीड़ित शोषित आदमी के पास इस तरह मरने की फुरसत कहाँ ? वह तो अपने घर द्वारे बैठ कर मुआवजे की बाट जोहता है l मदद के लिए पटवारी से लेकर अफसर तक और ग्राम प्रधान से लेकर जिला स्तरीय नेता तक सभी के पीछे पीछे चिरौरी करता घूमता है l वह तिल -तिल कर मरता है लेकिन इस तरह अपने प्राण नहीं त्यागता l वह मरते दम तक अपनी औकात याद रखता है और जब मरना अपरिहार्य हो जाता है तो चुपचाप मर जाता है l
आप वालों को उसके इस तरह मरने में बड़ी साजिश की बू आ रही है l अन्य दलों के नेताओं को इसमें अपने लिए मौके ही मौके दिखाई दे रहे हैं l किसान की जब फसल बरबाद होती है तब राजनीतिक जमीन पर उम्मीदों की फसल लहलहाती है l सपने जब धाराशाही होते हैं तब गिद्धों के लिए महाभोज का इंतजाम होता है l वह अन्नदाता है इसलिए उसे अपने लिए कुछ मांगने का अधिकार नहीं है l यह मुल्क कृषिप्रधान देश है इसलिए यहाँ के किसानों को मरने के मामले में जल्दबाजी नहीं करनी चाहिए l उसे अपने रुतबे को समझ लम्बे अरसे तक भूखे रहने का सलीका सीखना चाहिए l
वह तमाम तमाशबीनों की उपस्थिति में अपनी पगड़ी का फंदा बना फांसी पर लटक गया l लोग देखते रहे और वह मर गया l नेता तक़रीर करते रहे और उसकी जिंदगी रीत गई l खबरनवीस एड़ियों पर उचक कर उसकी मौत के लाइव मंजर को फिल्माते रहे और उसके पास जिन्दा रहने की वजह खत्म हो गयीं l वक्त रहते उसे किसी ने नहीं बचाया l वह किसी का कुछ नहीं लगता था तो उसे कोई क्यों बचाता l वह किसी वीआईपी का निकट संबंधी भी तो नहीं था l और तो और वह दिल्ली का रहने वाला भी नहीं था तब उसकी चिंता दिल्ली वाले क्यों करे l
एक भोलाभाला आदमी पेड़ से लटक कर मर गया l वह किसान था ,व्यापारी था या कुछ और इस पर शोध चल रहा है l फ़िलहाल राजनीति के हाट पर घड़ियाली आसुओं की डिमांड यकायक बहुत बढ़ गई है l 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पे कमीशन का सातवाँ घोड़ा और तलहटी में खड़ा ऊंट

ओलंपिक का समापन और चोर की दाढ़ी में तिनका

इसरो के सेटेलाईट और एबोनाईट के पुराने रिकार्ड