डिसलाइक और व्हिसिल की मारक जुगलबंदी


फेसबुक पर जल्द डिसलाइक को बटन आने वाला है। बोले तो खानदानी टाइप के नकचढ़ो के लिए मुरादों भरे दिन आने वाले हैं। वे इस लाइक -लाइक की मोनोपोली से तंग आ चुके हैं।हर ऐरागैरा नत्थूखैरा लाइक का बटन दबाने में लगा है।किसी के घर गमले में फूल खिला -लाइक। किसी ने माथे पर पर्पल बिंदी लगी सेल्फी चिपकाई -लाइक। किसी ने घर फूंक तमाशा देखने की रेसिपी सुझाई –लाइक। कोई मरा तो लाइक ,कोई बाल बाल बचा तो भी लाइक। इस लाइक ने आभासी दुनिया को असल दुनिया की तरह कितना एकरस बना दिया है।
जब डिसलाइक आएगा तो कितना मजा आएगा। हर बात पर लाइक बटोरने वाले आत्ममुग्ध लोगों  को पता लगेगा कि ऊँचे पहाड़ों के नीचे आना सिर्फ ऊंटों के मुकद्दर में नहीं बदा होता। आभासी दुनिया में बिना वाचाल हुए भी असहमत हुआ जा सकता है। सर्वांग सुंदर सेल्फियों की शान में गुस्ताखी करने वाले वीरोद्त्त नायक नायिकाएँ अभी भी होते हैं। पसंदगी का विलोम नापसंदगी ही होता है। इसके –उसके पक्ष में जबरिया वोट देने की बाध्यता से इतर नोटा जैसा विकल्प है। डिसलाइक के आने की सुगबुगाहट विचारों के लोकतंत्र में हैड-टेल वाले सिक्के का हवा में उछलने जैसी है ,जिसकी हनक अरसे तक दुनिया महसूस करेगी।
सुनने में तो यह भी आया है कि सोशल मीडिया पर व्हिसिल बजाने का ऑप्शन भी आने वाला है।जनता की भारी मांग पर ये दोनों कारमाती बटन साइड बाई साइड लगे दिखेंगे।कुछ अच्छा दिखे तो सीटी बजाओभद्दा दिखे तो भी।कुछ काम का न दिखे तो यूँही ।लाइक और डिसलाइक  ऊब से उबरने के लिए सीटी बजाना हर हाल में एक बेहतर विकल्प साबित होता है।यह जिंदगी की कपास को संगीत की सुगंध से भर देगा। कमेन्ट दर्ज करने के दौरान उपयुक्त शब्दों की किल्लत और उनके सही स्पेलिंग को लेकर होने वाले कन्फ्यूजन का सदा के लिए खात्मा कर देगा।बस एक दिक्कत यह रहेगी कि हर सीटी के साथ वॉयस आईडी का प्रूफ जमा करना अनिवार्य होगा। बेनामी सीटी कतई नहीं बज पाएगी। सीटी बजानी है तो पहचान लिए जाने का रिस्क उठाना होगा।  
डिसलाइक और व्हिसिल की मारक जुगलबंदी सोशल मीडिया को सनसनीखेज़ बना देगी।एक तरफ कोई किसी को डिसलाइक करेगा और दूसरी ओर पट से सीटी बजा देगा। तब कोई न समझ पायेगा कि बंदे ने ये किया तो आखिर किया क्या।तब कोई सियाना सोशल मीडिया पर ज्ञान बांटेगा कि असहमति के वर्षा वनों में जब आवारा हवाएं सीटी बजाती हुई चलती हैं तब उम्मीदों के बिरवों पर रंगीन फूल थिरकते हैं।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जलीकट्टू और सिर पर उगे नुकीले सींग

भगत जी ,जगत जी और मस्तराम की पकौड़ी

शराफ़त नहीं है फिर भी....