आप और दूर की कौड़ी


दिल्ली में आप ने झाड़ू पछाड के जरिये सबको चारों खाने चित्त कर दिया । अब वह इस स्थिति में है कि चित्त भी उसकी और पट भी उसकी ।  चारों ओर जयजयकार हो रही है । जीतने वाले तो जीतने वाले  ,पटखनी खाने वाले भी इस जैकारे में शामिल हैं । परस्पर विरोधी लोग एक दूसरे से गलबहियां करते कह रहे हैं –मुबारक हो जी । जी सर जी ,दिली मुबारकबाद । मफलर ने कीमती सूट को हरा दिया । सादगी गरिमामय हुई । आम आदमी की जीत गई ।  राजनीतिक दांवपेच हार गए । कोई दीवाना पुरजोर आवाज़ में गा  रहा है कि बड़बोलापन हार गया । जानकार लोग  उलझन में  हैं । वे समझ नहीं पा रहे कि इस जंग में वाम विचार की फतह हुई या दक्षिण पंथ की या फिर मध्य मार्ग की फतह हुई । उनकी बौद्धिकता की साख दांव पर लगी है ।
एक बात तय है कि जीत तो हुई है और वह भी एकतरफा हुई है । इस कदर हुई है कि हारने वाले ढूंढे नहीं मिल रहे । हराने वाले अंगूठों को टिली लिली झर्र करने के लिए उपयुक्त लक्ष्य नहीं मिल रहे । तरकश में रखे व्यंग्य बाण निठल्ले बैठे  कसमसा रहे हैं । आत्मचिंतन वाले दिनन के फेर को निहारते हुए मुहँ सिले उदास बैठे हैं । उनके लिए दिल्ली एक बार फिर दूर रह गई है । वह हरियाणा के बार्डर पर सस्ती दारू के सरकारी ठेके पर सुकून और उम्मीद ढूंढ रहे हैं । भक्तगगणों की फैक्ट्री में बने चुटकलों के लिए बाजार से ग्राहक नदारद हो गए हैं । उन्होंने ये चुटकुले फिलवक्त गोदाम में रख दिए हैं ताकि वक्त जरूरत काम आयें और  सनद रहे ।  वैसे भी राजनीतिक चुटकुले कभी आब्सलीट (निष्प्रयोज्य ) नहीं होते । कोई नहीं जानता कि इनकी जरूरत कब आन पड़े । उम्मीद एक जिन्दा शब्द है ,यह कभी बासी नहीं पड़ता  ।
राजनीति अपने लिए निरंतर नए प्रहसन गढ़ती है । इसमें  मसखरों के अलावा सारे किरदार बदलते रहते हैं । नायक खलनायक हो जाते हैं और विलेन मसीहा बन जाते हैं । लेकिन विदूषक कभी नहीं बदलते वे नवीनतम भावभंगिमा के साथ सदा उपस्थित रहते हैं । दर्शकों को ये इसीलिए भाते हैं क्योंकि  यह हमेशा जिंदगी में हँसने हंसाने के लिए गुंजाइश बनाये रखते हैं । वे कभी थक कर नहीं बैठते । कभी नहीं ऊँघते । पछताने के चक्कर वक्त खराब नहीं करते । उनके लिए रंगमंच पर स्पेस की कमी कभी नहीं पड़ती ।
दिल्ली वाले कह रहे हैं कि आप जीत गए । बधाई हो जी बधाई हो ,आपके यहाँ आप आये हैं  ।  दिल्ली से बाहर रहने वाले इस पहेली को ठीक से समझ नहीं पा रहे । वे सोच रहे हैं कि इतनी बड़ी तादाद में वहां आप आये हैं तो क्या उनमें से एकाध दिल्ली से बाहर निकल कर रोडवेज की बस ,ट्रेन , टैम्पू या डग्गामार जुगाड़ में बैठ कर उनके यहाँ भी एक न एक दिन जरूर आयेंगे ?  वे आयें तो लाइफ बन जाये । वे अपने साथ मुफ्त की वाईफाई लायें या न लाएं लेकिन एक अदद आस तो लेकर आयेंगे ही । आस बड़ी चीज होती है।  आस की हरी मखमली घास पर टहलता हुआ लोकतंत्र सदा जिन्दा और स्वस्थ  रहता है ।
दिल्ली वाले इस बार आपके लिए दूर की कौड़ी चमकीली धूप और हरी दूब लाए हैं  







इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ओलंपिक का समापन और चोर की दाढ़ी में तिनका

मुंह फुलाने की वजह

जलीकट्टू और सिर पर उगे नुकीले सींग