माननीय बनने का चक्कर


एक माननीय ने दूसरे माननीय से कहा कि वह  उसे  एक दो नहीं पूरे सौ करोड़ धन  दे  ,वह उन्हें  मान -सम्मान ,ओहदा , प्रतिष्ठा ,हनक , कनक और वीआईपी स्टेट्स की चमक देंगे   |दूसरा माननीय कह रहा है कि वह  अपनी चमक दमक बरक़रार रखने के लिए तत्पर हैं  |उसे पाने के लिए वह सब कुछ दे सकते  हैं   लेकिन घूस नहीं दे सकते  |आखिर उनका   भी तो कोई आत्मसम्मान  है |घूस देने का काम आम आदमी करते  है ,माननीय नहीं |वे तो जो लेते, पाते या हड़पते  हैं ,ससम्मान और साधिकार करते हैं |
यह तो सबको पता है कि राजनीति के  हाट में सब कुछ बेचा और खरीदा जाता  है |दिलचस्प बात यह है कि इस मंडी में खरे से अधिक खोटे सिक्के  चलते हैं  |यहाँ  नयनाभिराम सिद्धांतों के गैस भरे गुब्बारे आसमान में ऊँची उड़ान भरते हैं |जरा सी तेज हवा चली नहीं कि ये गुब्बारे उड़ कर कहीं के कहीं पहुँच जाते हैं |एक्स पार्टी का गुब्बारा  वाई पार्टी की छत पर उतर जाता है |कुछ गुब्बारे तो इतने कुशल होते हैं कि जिस छत पर संयोगवश या दुर्घटनावश जा उतरते  हैं उसी पर अपना आधिपत्य जमा कर जेड पार्टी बना लेते हैं |
माननीय वही बनता है जो सत्ता के आरामघर तक पहुँचाने वाली हर संकरी गली का रास्ता जानता है |आम रास्ते पर चल कर अपना गंतव्य ढूंढते लोग हमेशा अटके रह जाते हैं |उनकी महत्वाकांक्षी पतंग को कोई भी काट देता है |जनधन में सदैव ठन ठन ही रहता है और काला धन गोरा बनने के लिए गोपन खातों की शरण ले लेता है |
यह बात एकदम सही है कि माननीय कभी अपनी अंतरात्मा से समझौता नहीं करते |उनके भीतर जब कुछ पाने की लालसा पनपती है तो वे उसे मार्केट रेट पर खरीद लेते हैं |एमआरपी पर माल खरीदना या बेचना जायज होता है |ऐसा करने से माननीयशब्द  की गरिमा जस की तस बनी रहती है |मोलभाव करके माल की खरीद फरोख्त भी हो जाती है और आत्मा पर फिजूल का दवाब भी नहीं बनता |
माननीय बनना बनाना मिलियन डॉलर या यूरो का व्यवसाय है |राजनीति भी अन्य धंधों की तरह एक कारोबार है |बाज़ार का नियम है कि जो धंधा लाभप्रद होता है वह कभी निंदनीय या गंदा नहीं होता |दलाल स्ट्रीट पर जो नैतिकता की बात करता है या दुहाई देता है उसे मार्केट पिटा हुआ मोहरा या आर्थिक व मानसिक रूप से लगभग दिवालिया मान लेता है |
दो माननीय विशुद्ध लेनदेन के मसले पर भिड़ रहे हैं लेकिन लड़ रहे हैं बेहद सलीके के साथ |उनके द्वंद्व में भी अजब एहतियात है ताकि कल जब दुबारा हाथ मिलाएं तो शर्मिन्दा न होना पड़े |एक कह रहा है कि माननीय जी अपने माननीयपन  के विस्तार के लिए सौ करोड़ दे रहे थे |दूसरे माननीय जी कह रहे हैं कि न उन्होंने किसी को कभी कुछ दिया, न उनसे किसी ने  कुछ माँगा |उन्हें तो जीवन में जो भी  मिला ऐसे ही प्राप्त हुआ  जैसे किसी  मुहँ बाये सोते आलसी के मुख में झड़बेरी का बेर टपक पड़े  | जैसे मायूस बिल्ली के भाग्य से छीकें पर रखा दही बिखर जाये |जैसे लम्बी छुट्टी लेकर गई कामवाली बाई पति से बीच पिकनिक में अनबन हो जाने के कारण काम पर वापस लौट आये |

मानना होगा कि माननीय लोग तमाम मतभेदों और मनभेदों के बावजूद एक दूसरे की गरिमा का बड़ा ख्याल रखते हैं |ये बड़ी सरलता से लाखों करोड़ों के मसले को एक प्रहसन में तब्दील कर देते हैं |

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पे कमीशन का सातवाँ घोड़ा और तलहटी में खड़ा ऊंट

ओलंपिक का समापन और चोर की दाढ़ी में तिनका

इसरो के सेटेलाईट और एबोनाईट के पुराने रिकार्ड